Zydus Cadila: 5-12 साल के बच्चों को भी लगेगा अब कोरोना का टीका, जल्द शुरू होगा ZyCoV-D का ट्रायल

Zydus Cadila की वैक्सीन ZyCoV-D का ट्रायल 5-12 साल के बच्चों पर किया जाएगा. अभी यह कंपनी 12-18 साल के उम्र के बच्चों पर ट्रायल कर रही है. इसके खत्म होते ही 5-12 के एज ग्रुप पर ZyCoV-D का ट्रायल शुरू कर दिया जाएगा.

नई दिल्ली- देश में कोरोना महामारी (covid-19) को खत्म करने के लिए टीकाकरण का काम तेजी से चल रहा है. 18 साल से ऊपर के लोगों को कोरोना की वैक्सीन दी जा रही है. सरकार ने अभी तीन वैक्सीन-कोविशील्ड, कोवैक्सीन और स्पुतनिक को मंजूरी दी है. अभी तक बच्चों को टीकाकरण से दूर रखा गया है क्योंकि उनपर वैक्सीन का ट्रायल नहीं हो सका है. कुछ देश बच्चों को भी लगा रहे हैं जहां पहले रिसर्च और उसके आधार पर ट्रायल पूरा हो चुके हैं. हालांकि भारत में भी यह काम तेज होने जा रहा है. यहां की जाइडस कैडिला (Zydus Cadila) कंपनी बच्चों पर टीके का ट्रायल शुरू करने जा रही है.

गुजरात के अहमदाबाद स्थित फार्मा कंपनी जाइडस कैडिला (Zydus Cadila) का दवा निर्माण के क्षेत्र में बड़ा नाम है. यह कंपनी कोरोना की वैक्सीन भी बना रही है. यह कंपनी ZyCoV-D नाम से वैक्सीन बना रही है जिसका जून महीने से प्रोडक्शन शुरू होने वाला है. यह कंपनी अब बच्चों के टीके पर भी काम करने जा रही है.

बड़े उम्र के लोगों पर ट्रायल पहले ही पूरा हो चुका है और वैक्सीन जल्द मार्केट में उतरने वाली है. बच्चों को कोरोना से सुरक्षित रखने के लिए कई रिसर्च चल रहे हैं. इसमें जाइडस कैडिला (Zydus Cadila) आगे है जिसने अपनी वैक्सीन ZyCoV-D का बच्चों पर ट्रायल की तैयारी शुरू कर दी है.

12-18 साल के बच्चों पर जारी है ट्रायल

Zydus Cadila की वैक्सीन ZyCoV-D का ट्रायल 5-12 साल के बच्चों पर किया जाएगा. अभी यह कंपनी 12-18 साल के उम्र के बच्चों पर ट्रायल कर रही है. इसके खत्म होते ही 5-12 के एज ग्रुप पर ZyCoV-D का ट्रायल शुरू कर दिया जाएगा. Zydus Cadila ने 12-18 साल के एज ग्रुप में 800 बच्चों पर वैक्सीन का ट्रायल किया है. इस ग्रुप के बच्चों का एक बड़ा डेटाबेस तैयार कर लिया गया है. अगर सबकुछ ठीक रहा तो 12-18 साल के बच्चों के लिए वैक्सीन की जल्द मंजूरी मिल जाएगी. कैडिला हेल्थकेयर के मैनेजिंग डायरेक्टर शर्विल पटेल ने ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ से यह बात कही.

वैक्सीन का नहीं होगा साइड इफेक्ट

12 साल से कम की उम्र के बच्चों के लिए टीके (covid-19) पर कब काम शुरू होगा, इसके बारे में Zydus Cadila की तरफ से कहा गया है कि वैक्सीन निर्माण का काम चरण दर चरण होता है. पहले वयस्कों के लिए वैक्सीन बनाई गई, उसके बाद 12-18 साल के बच्चों पर ट्रायल हो रहा है. इसके ठीक बाद ZyCoV-D का ट्रायल 12 साल से कम उम्र के बच्चों पर किया जाएगा.

शर्विल पटेल के अनुसार अगले चरण में 5-12 साल के बच्चों पर कोरोना वैक्सीन का ट्रायल शुरू कर दिया जाएगा. पेटल ने कहा है कि यह वैक्सीन जब बनकर तैयार होगी तो बच्चों के लिए बहुत कारगर होगी क्योंकि इसमें कोई साइड इफेक्ट नहीं होगा. जैसा कि अन्य वैक्सीन में देखा जाता है.

वैक्सीन कब जाएगी अप्रूवल के लिए

डीएनए या आरएनए के चलते शरीर में कोरोना वायरस (covid-19) के खिलाफ एंटीबॉडी बनेगी. यह सारा काम कोशिकाओं के स्तर पर होगा. कैडिला कंपनी जून महीने में सरकार के सामने अपनी वैक्सीन के इमरजेंसी अप्रूवल के लिए अरजी लगाएगी. कैडिला भी अन्य कंपनियों की तरह दो-डोज के तरीके पर काम कर रही है. यानी कि ZyCoV-D वैक्सीन भी लोगों को दो डोज में दी जाएगी.

निडिल-फ्री वैक्सीनेशन

बच्चों पर जिस टीके का ट्रायल होगा, उसे जब मंजूरी मिलेगी और मार्केट में उतारा जाएगा, तो उसमें कई खासियतें होंगी. एक तो कोई साइड इफेक्ट नहीं, दूसरा इसमें कोई निडिल नहीं होगी. यह पूरी तरह से निडिल-फ्री वैक्सीनेशन होगा. बच्चों को निडिल से दिक्कत होती है, ज्यादा चुभने का डर होता है. Zydus Cadila कंपनी इसका पूरा ध्यान रख रही है. ZyCoV-D एक डीएनए प्लाज्मिड वैक्सीन है जिसमें वायरस के जेनेटिक कोड डीएनए या आरएनए का आंशिक इस्तेमाल हुआ है.

isha

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here