खाली दिमाग शैतान का घर ! लोकडाउन मे बैठे बैठे कोरोना संक्रमण के नाम पर बीमा कम्पनियो से रुपये बटोरने का धंधा खोल डाला ! पकड़ा गया कोरोना पोजिटिव की नकली रिपोर्ट देने वाला रेकेट 

 

अकोला- खामगाँव के एक सामान्य अस्पताल में फर्जी रिपोर्ट बनाने के आरोप में गुरुवार सुबह एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया। सामान्य अस्पताल के रेजिडेंट मेडिकल ऑफिसर की शिकायत पर शहर की पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है. गिरफ्तार आरोपी का नाम है विजय राखांडे रा. पहुर्जिरा ता. शेगांव . कोरोना वायरस ने जैसे पुरे देश मे लोगों को भयभीत करके रखा था , वैसे खामगांव और उसके आसपास के देहात के लोगों को भी जान हथेली पे रख के बैठा दिया था l मगर एसे मे कई लोगों ने संक्रमण के नाम पर बीमा कम्पनियो से रुपये बटोरने का धंधा खोल डाला था !

गरिब वर्ग तो मजबुरी और अपंगता वश मे भगवान के नाम पर जिने के लिये रुपये मांगते है, मगर ये शिक्षीत रोज़गार कमाने वाले लोग अस्पताल के संविदा कर्मियों और उनके गुर्गों के सहयोग से स्वयं को कोरोना संक्रमीत बता कर , बडी छुट्टीया और बिमा कम्पनियॊ से रुपये बटोर रहे थे ! सामान्य अस्पताल में भर्ती मरीजों का दूसरा स्वाब कोरोना काल में निजी कंपनियों और औद्योगिक क्षेत्र की फैक्ट्रियों से श्रमिकों को पोझिटीव लाने के लिए किया जाता था।

खामगांव सामान्य चिकित्सा अस्पताल निवासी डॉ. नीलेश टापरे ने सिटी पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है।

शिकायत के बाद, शहर पुलिस ने सामान्य अस्पताल के एक ठेका कर्मचारी विजय राखोंडे और अन्य के खिलाफ दंड संहिता की धारा 420 और अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया।मामला दर्ज होने के बाद आरोपी फरार हो गया. अन्य आरोपियों की तलाश शुरू कर दी गई है। इस जाली संक्रमण कांड मे ठेका कर्मी और उसके साथी ने कोरोना पॉजिटिव होने की फर्जी रिपोर्ट बनाने की कोशिश की ,इस प्रकार का खुलासा होने के बाद नगर थाने में विस्तृत शिकायत दर्ज कराई गई है। यह सामान्य अस्पताल के अधिकारियों और कर्मचारियों की अनुपस्थिति में किया गया था। -डॉ. नीलेश टपरे निवासी चिकित्सा अधिकारी, सामान्य अस्पताल, खामगांव।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here