क्या आप जानते हैं तहसीलदार, कोतवाल और लेखपाल होते कौन हैं? ये न हों तो रुक सकते हैं सभी महत्वपूर्ण काम

tahsil

अकोला- रोजमर्रा के जीवन में तहसीलदार, कोतवाल और लेखपाल जैसे शब्दों का उपयोग होता रहता है. आपने भी कई बार इन शब्दों को सुना होगा. लेकिन आप क्या इनका मतलब जानते हैं? क्या आप जानते हैं कि तहसीलदार, कोतवाल और लेखपाल क्या होते हैं और इनके काम क्या होते हैं? यदि आपको इनके बारे में कोई खास जानकारी नहीं है तो हम यहां आपको इन तीनों के बारे में पूरी जानकारी देंगे. तहसीलदार, कोतवाल और लेखपाल के बारे में कुछ भी जानने से पहले आपको ये जानना चाहिए कि ये तीनों ही अपने-अपने क्षेत्र में एक सरकारी अधिकारी होते हैं और इनके जिम्मे कई बड़े काम होते हैं. हम सभी लोगों को भी इन अधिकारियों से अकसर काम पड़ते रहते हैं.

तहसीलदार कौन होते हैं और इनके काम क्या हैं
जिलों के अंतर्गत आने वाले किसी तहसील के अधिकारी को तहसीलदार कहा जाता है. तहसीलदार, नायब तहसीलदार से बड़े अधिकारी होते हैं. एक तहसीलदार अपनी तहसील के कई बड़े काम देखता है. यह अपने क्षेत्र के राजस्व प्रभारी होने के साथ-साथ राजस्व निरीक्षक भी होते हैं. इसके साथ ही ये एक तहसील के टैक्स ऑफिसर के रूप में भी काम करते हैं. तहसीलदार के पद पर कार्यरत अधिकारी अपनी तहसील के राजस्व और टैक्स के साथ-साथ भूमि से जुड़े मामलों को भी देखता है.

लेखपाल कौन हैं और ये क्या काम करते हैं
लेखपाल के बारे में जानने से पहले आपको बता दें कि लेखपाल दो प्रकार के होते हैं- राजस्व लेखपाल और चकबंदी लेखपाल. राजस्व लेखपाल की नियुक्तियां आमतौर पर तहसीलों के अंतर्गत की जाती है. एक राजस्व लेखपाल के अधिकार में कई गांव आते हैं. ये जमीनों से जुड़ा काम देखते हैं. जमीन की नपाई, लेखा-जोखा करना, अतिक्रमण और अवैध कब्जे जैसे मामलों की देखरेख करना राजस्व लेखपाल का काम होता है. इसके अलावा ये कई तरह के प्रमाण पत्र जैसे जाति प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र आदि में भी अहम भूमिका निभाते हैं.

चकबंदी लेखपाल का काम भी भूमि से ही जुड़ा हुआ है. ये अपनी तहसील के तहत आने वाले किसी गांव के किसान के छोटे-छोटे खेतों की चकबंदी करने का काम करता है. इसके अलावा ये अपनी तहसील में खेती करने योग्य भूमि का भी लेखा-जोखा रखते हैं.

कोतवाल किसे कहा जाता है और इनका क्या काम होता है
कोतवाल, पुलिस विभाग का एक अधिकारी होता है जो कोतवाली के कामकाज करता है. यह किसी कोतवाली का इंचार्ज होता है. कोतवाल हमेशा एसएचओ लेवल का अधिकारी होता है. कोतवाली को मेन पुलिस स्टेशन भी कहा जाता है और इसे एक पुलिस थाने से बड़ा दर्जा दिया जाता है. इसके साथ ही एक कोतवाल किसी पुलिस स्टेशन के इंचार्ज से ऊंचा दर्जा रख सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here