जानें प्रेसीडेंशियल सैलून की खास बातें, जिससे 18 साल बाद कल मा.राष्ट्रपति करेंगे यात्रा

राष्‍ट्रपति की प्रेसीडेंशियल स्पेशल ट्रेन 25 जून को दिल्ली से वाया अलीगढ़-कानपुर आगमन

नई दिल्ली- रेलवे के इतिहास में यह पहला मौका होगा, जब राष्ट्रपति अलीगढ़ स्टेशन से स्पेशल ट्रेन के जरिए अपना दौरा करेंगे। देश मे भी करीब 18 वर्ष बाद पहला अवसर है, जब राष्ट्रपति अपना कोई दौरा ट्रेन से पूरा करेंगे। ऐसे में इस दौरे को लेकर सुरक्षा एजेंसियां पूरी तरह से अलर्ट हैं। रेलवे प्रशासन ने वीआइपी मूवमेंट को लेकर हाई अलर्ट घोषित कर दिया है। सुरक्षा एजेंसियां चप्पे-चप्पे पर नजर रख रही हैं। दिल्ली-हावड़ा रेलवे ट्रैक की सुरक्षा व्यवस्था और भी कड़ी कर दी गई है। सुरक्षा के हर बिंदु पर गहनता से जांच-पड़ताल की जा रही है। पूरे रेलवे ट्रैक को सेक्शन वाइज बांटकर आरपीएफ व जीआरपी के अलावा स्थानीय थाना पुलिस को अलर्ट किया गया है। दिन-रात रेलवे ट्रैक की सुरक्षा के साथ ही गस्त व पेट्रोलिंग तेज कर दी गई है.

2 कोच वाला ट्रेन जिसे प्रेसीडेंसिशल सैलून भी कहते हैं 

राष्ट्रपति जिस ट्रेन में यात्रा करते हैं उसे प्रेसीडेंशियल सैलून भी कहते हैं जिसमें सिर्फ और सिर्फ वही सफर कर सकते हैं। यह आम ट्रेन की श्रेणी भी नहीं आता है। पटरियों पर ही इसे चलाए जाने की वजह से इसे प्रेसीडेंशियल ट्रेन भी कहते हैं। बुलेट प्रूफ विंडो, पब्लिक एड्रेस सिस्टम, हर आधुनिक सुविधा से ये ट्रेन लैस होता है। इसमें दो कोच होते हैं जिनका नंबर 9000 व 9001 होता है। इस स्पेशल ट्रेन में राष्ट्रपति के आराम करने के लिए बेडरूम और उनके खाने पीने के लिए एक किचन, राष्ट्रपति के स्टॉफ के लिए अलग चेंबर्स हैं।

87 बार हुआ इस सैलून का प्रयोग

अब तक देश के अलग-अलग राष्ट्रपतियों द्वारा करीब 87 बार इस प्रेसीडेंशियल सैलून का प्रयोग किया जा चुका है। देश के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने 1950 में पहली बार इस सैलून का प्रयोग किया था। उन्होंने दिल्ली से कुरुक्षेत्र का सफर प्रेसीडेंशियल सैलून से किया था। इसके अलावा डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन और डॉ. नीलम संजीव रेड्डी ने इस स्पेशल ट्रेन के जरिये यात्राएं की थीं। उसके करीब 26 साल बाद 30 मई 2003 को डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ने इस सैलून से बिहार की यात्रा की थी।

राष्ट्रपति का चार दिवसीय कानपुर दौरा

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद प्रेसीडेंशियल ट्रेन से 25 जून को आकर 28 को जाएंगे। चार दिन तक उनकी ट्रेन प्लेटफार्म नंबर 10 पर कड़ी सुरक्षा घेरे में खड़ी रहेगी।  25 जून को दोपहर डेढ़ बजे वह विशेष ट्रेन से दिल्ली से रवाना होंगे। ट्रेन शाम सात बजे कानपुर सेंट्रल स्टेशन पहुंचेगी। 25 और 26 को वह कानपुर नगर में रहेंगे। यहां वह अपने सहयोगियों, रिश्तेदारों और मित्रों से मुलाकात कर सकते हैं। 27 जून को परौंख में वह आधे घंटे में चार स्थानों का भ्रमण करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here