लद्दाख में सहमति के बावजूद भारत को चीनियों पर भरोसा नहीं, लंबी ‘जंग’ की तैयारी में केंद्र सरकार

लद्दाख में लंबी ‘जंग’ की तैयारी में केंद्र सरकार

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, चीन की पिछली हरकतों को देखते हुए केंद्र सरकार पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ लंबी ‘जंग’ के लिए तैयार है. अरुणाचल प्रदेश में साल 1986 के सुमदोरोंग चू सैन्य गतिरोध को हल करने में लगभग आठ साल का समय लगा था. इसे देखते हुए मोदी सरकार पूर्वी लद्दाख में वर्तमान गतिरोध पर भारतीय स्थिति को एकतरफा कमजोर किए बिना सैन्य वार्ता के आगे के दौर के लिए तैयार है. इसके साथ ही भारतीय सेना पूर्वी क्षेत्र पर पैनी नजर बनाए हुए है. एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘यह एक अंतहीन रात है.’

इन इलाकों में आक्रामक मोड में है चीनी सेना

लद्दाख कोर कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन (Lt Gen PGK Menon) ने कहा, ‘भारतीय दृष्टिकोण यह है कि दोनों सेनाओं के बीच सभी विवादास्पद बिंदुओं को हल किया जाना चाहिए. इसमें देपसांग बुलगे और गोगरा-हॉट स्प्रिंग्स शामिल हैं, जहां पीएलए (चीनी सेना) आक्रामक मोड में बना हुआ है.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here