गुजरात में 61000 छात्र प्राइवेट से गए सरकारी स्‍कूल में, दौर बदल रहा…

  महंगी फीस या बिगड़ी आर्थिक स्थिति? 

gujarat-has-the-highest-number-of-61000-students-shifted-from-private-to-government-schools-since-अहमदाबाद. प्राइवेट स्‍कूल  की ओर से लगातार बढ़ाई जा रही फीस की मनमानी कहें या फिर कोविड के दौरान ज्‍यादातर घरों की बिगड़ी आर्थिक स्थिति,  लेकिन ये सच है कि गुजरात (Gujarat) में इस साल अब तक लगभग 61 हजार बच्‍चों ने प्राइवेट स्‍कूलों से निकलकर सरकारी स्‍कूलों में दाखिला ले लिया है. बच्‍चों का इस तरह सरकारी स्‍कूलों में दाखिला लेना हर किसी को हैरान कर रहा है.साल 2014 के बाद ये सबसे बड़ा बदलाव है. सरकारी स्‍कूलों में दाखिला लेने वाले बच्‍चों की संख्‍या अभी और बढ़ने की उम्‍मीद है, क्‍योंकि प्रवेश प्रक्रिया 31 अगस्‍त तक चलने वाली है.

सरकारी स्‍कूलों में दाखिला लेने वालों की संख्‍या इतनी ज्‍यादा हो चुकी है कि अहमदाबाद नगर निगम (एएमसी) द्वारा चलाए जा रहे स्कूलों में कई विधायकों ने बच्चों के लिए सिफारिशी पत्र भेजे हैं. इंडियन एक्‍सप्रेस में प्रकाशित खबर के अनुसार भाजपा विधायक वल्लभ काकड़िया और जगदीश पटेल जबकि कांग्रेस विधायक हिम्मत सिंह पटेल और गयासुद्दीन शेख ने सरकारी स्‍कूलों को पत्र लिखकर कई बच्‍चों के दाखिले की सिफारिश की है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here