महाराष्ट्र में डेल्टा प्लस वेरिएंट के तीन 3 अलग-अलग रूप सामने आए हैं खतरा बढ़ा.

मुंबई- महाराष्ट्र में हाल ही में हुए जीनोम सीक्वेंसिंग से एक बड़ी गंभीर खबर सामने आई है. इस जांच से पता चला  है कि महाराष्ट्र में कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट के कुल 66 केस हैं. इनमें डेल्टा प्लस वेरिएंट के 3 अलग-अलग रूप सामने आए हैं. ये तीन अलग-अलग वायरस हैं Ay.1,Ay.2 और Ay.3. डेल्टा प्लस वेरिएंट के इन तीन अलग-अलग रूपों  का प्रभाव कितना खतरनाक हो सकता है, इस बारे में फिलहाल जानकार कुछ बताने की स्थिति में नहीं हैं. उनकी तरफ से यही बात सामने आ रही है कि और रिसर्च और स्टडी के बाद ही आगे कुछ कहा जा सकता है.

वैज्ञानिकों ने डेल्टा प्लस स्ट्रेन के ऐसे 13 अलग-अलग रूपों का पता लगाया है. Ay.1,Ay.2 और Ay.3. ये शुरुआत के 3 रूप हैं जो आगे 13 तक जाते हैं. महाराष्ट्र में इन 13 में से शुरुआत के तीन रुपों का पता लगा है. बता दें कि डेल्टा वेरिएंट में म्यूटेशन के बाद डेल्टा प्लस वेरिएंट  तैयार हुआ है. ये डेल्टा के स्पाइक प्रोटीन में K417N नाम के एक एक्स्ट्रा म्यूटेशन की वजह से तैयार हुआ है. ये संक्रमित कोशिकाओं के लिए वायरस के अटैचमेंट को बढ़ा देता है.

 महाराष्ट्र भर में डेल्टा प्लस वेरिएंटा का खतरा

इसके अलावा महाराष्ट्र में कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट से दो और मौतें भी दर्ज हुई हैं. पिछले महीने महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में 69 साल की एक बुजुर्ग महिला की मौत कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट से ही हो गई थी. साथ ही रत्नागिरि में भी 80 साल की एक महिला की जान इसी वेरिएंट की वजह से चली गई थी.

डेल्टा प्लस वेरिएंट के सबसे ज्यादा केस जलगांव से सामने आए

महाराष्ट्र में डेल्टा प्लस के सबसे ज्यादा केस उत्तरी महाराष्ट्र के जलगांव से सामने आए हैं. यहां 13 ऐसे केस मिले हैं. इसके बाद कोंकण क्षेत्र के रत्नागिरि से 12 केस सामने आए हैं. तीसरे नंबर पर मुंबई है. मुंबई में डेल्टा प्लस वेरिएंट के 11 केस सामने आए हैं.

यह भी पढ़े – सीबीआई एंटी करप्शन ट्रैप विभागीय अभियंता 2 लाख रुपये की रिश्वत लेते और कार्यालय अधीक्षक 40 हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकडे गए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here