सोमवार से जारी कडक नियमो (निर्बंध) के संदर्भ में राज्य सरकार द्वारा स्पस्ट दिशानिर्देश.. 

akola news

निचे इस न्यूज़ का हिन्दी अनुवाद भी दिया गया है. ये राज्य सरकार द्वरा अभी प्राप्त हुई जानकरी है

मुंबई, दि.26 : राज्य आपत्ती व्यवस्थापन, मदत आणि पुनर्वसन विभागामार्फत ‘ब्रेक दि चेन’ अंतर्गत 4 जून 2021 पासून लागू करण्यात आलेल्या निर्बंधांमध्ये विस्तार करताना जमाव व मेळावे, धार्मिक स्थळ, खाजगी प्रशिक्षण वर्ग कौशल्य केंद्रे, हॉटेल, पर्यटन स्थळासंदर्भात काही क्षेत्रांचे स्पष्टीकरण देण्यात आले आहे, जेणेकरून निर्बंधांची अंमलबजावणी करताना त्यात गैरसमज किंवा अस्पष्टता  येणार नाही.

जमाव/ मेळावे

1- जमावाची व्याख्या ‘एका सामूहिक कारणासाठी पाच पेक्षा जास्त लोकांचे एकत्रित येणे’ अशी करण्यात आली आहे. यामध्ये लग्न समारंभ, पार्टी, निवडणुका, प्रचार, सोसायटी बैठका, धार्मिक कार्यक्रम, मनोरंजनात्मक कार्यक्रम, क्रीडा सामने, सामाजिक कार्यक्रम यांचा अंतर्भाव असेल. यामध्ये काही अस्पष्टता असल्यास जिल्हा आपत्ती व्यवस्थापन प्रशासन जिल्हाधिकारी अंतिम निर्णय घेतील. सदर मार्गदर्शक तत्त्वे अशा अन्य जमवासाठीही लागू पडेल की ज्याचा इथे उल्लेख करण्यात आलेला नाही.

2-आपत्ती म्हणून कोविड-19 जोपर्यंत अस्तित्वात असेल, तोपर्यंत 100 पेक्षा जास्त लोकांच्या जमावावर पूर्णपणे बंदी असेल. फक्त स्थानिक प्रशासन आणि वैधानिक स्वरूपाच्या जमावाला यातून सूट असेल.

3– स्थानिक प्रशासन आणि वैधानिक स्वरूपाचा जमाव

1- नागरी विकास विभाग आणि ग्रामीण विकास विभागातर्फे जारी केलेल्या मार्गदर्शक तत्त्वे हे 4 जून 2021 च्या आदेशानुसार अस्तित्वात असतील.

2- अत्यावश्यक कामासाठी जिल्हाधिकारी यांच्या शिफारशी अनुसार एस डी एम ए/ यु डी डी /आर डी डी यांच्याकडून पूर्वपरवानगी घ्यावी लागेल.

4- बांधकाम होत असलेल्या ठिकाणी क्षमतेच्या 50 टक्क्यापेक्षा जास्त संख्येने काम करता येणार नाही.

5 – खुल्या जागेच्या ठिकाणीही क्षमतेच्या 25 टक्के पेक्षा जास्त लोकांना काम करता येणार नाही.

6 – कोणत्याही संमेलन अथवा मेळाव्याचा कालावधी तीन तासांपेक्षा जास्त असू शकणार नाही.

7 – एखाद्या आस्थापनेच्या ठिकाणी एकापेक्षा जास्त संमेलन नियोजित केले गेले असतील तर या दोन मेळाव्यादरम्यान पुरेशा कालावधी असावा आणि तो अश्या पद्धतीचा असावा जेणेकरून येणाऱ्या आणि जाणाऱ्या पाहुण्यांमध्ये वार्तालाप आणि परस्पर संवाद होणार नाही. तसेच दोन संमेलनांच्या दरम्यान सदर ठिकाणी पूर्णपणे सॅनिटायझर  व स्वच्छता करावी लागेल.

8 – एखाद्या आस्थापनेच्या ठिकाणी संमेलने होत असतील तर तिथले कर्मचाऱ्यांचे पूर्णपणे लसीकरण केलेले असावे किंवा त्यांच्या नियतकालिक चाचण्या आवश्यक असतील.

9 – संमेलन अथवा मेळावे होत असलेल्या ठिकाणी वेळोवेळी सादर केलेले एस ओ पी यांचा काटेकोरपणे पालन करावा आणि असे होत नसल्याचे आढळून आल्यास दंडात्मक कारवाई केली जाईल. जर वारंवार मार्गदर्शक एस ओ पीं चे उल्लंघन होत असेल तर त्या स्थापनेला पूर्णपणे बंद केले जाईल आणि जोपर्यंत कोविड आपत्ती म्हणून अस्तित्वात असेल, तोपर्यंत या आस्थापनांना उघडण्याची मुभा मिळणार नाही.

10 – स्तर तीन, चार आणि पाच येथील जमाव अथवा मेळाव्यांवर पूर्णपणे बंदी असेल. फक्त चार जूनच्या आदेशामध्ये नमूद केलेल्या कारणांसाठी परवानगी असेल.

11 – जर एखाद्या ठिकाणी खाण्या -पिण्या सह संमेलन असेल आणि त्या ठिकाणी मास्क काढावे लागत आतील, तर अशा ठिकाणी उपाहारगृहांसाठी जारी केलेले मार्गदर्शक तत्त्वे यांची अंमलबजावणी केली जाईल. (तीन, चार आणि पाच स्तर साठी परवानगी नसेल. स्तर दोन  साठी क्षमतेच्या 50 टक्के लोकांसाठी जेवण आणि स्तर एक साठी नियमित असेल.)

धार्मिक स्थळ

1 – स्तर तीन, चार आणि पाच मध्ये सर्व धार्मिक स्थळे अभ्यागतांसाठी बंद असतील.

2 – अभ्यागतंसाठी धार्मिक स्थळ स्तर दोन मधून पूर्व परवानगी घेतल्यानंतर उघडले जातील.

3 – जमावाचे सर्व नियम पाळून स्तर एक मधील अभ्यागतांना धार्मिक स्थळे खुले असतील.

4 – धार्मिक स्थळांच्या परिसरात राहणाऱ्या व धार्मिक विधी पार पाडणारे कर्मचारी यांच्यासाठी धार्मिक स्थळे उघडे असतील, परंतु कर्मचाऱ्यांसाठी ‘आयसोलेशन बबल’ आवश्यक असेल.

5 – स्तर तीन, चार आणि पाच मध्ये बाहेरून येणाऱ्या कर्मचाऱ्यांसाठी ही धार्मिक स्थळे बंद असतील.

6 – असे धार्मिक स्थळ की, जेथे लग्नकार्य आणि अंतिम संस्कार केले जात असतील, त्या ठिकाणी जमावासाठी लागू असलेल्या नियमांची काटेकोरपणे अंमलबजावणी केली जाईल.

7 – कोणत्याही धार्मिक कार्य किंवा पवित्र दिवसाच्या निमित्ताने काही विशेष कार्य असल्यास त्या धार्मिक स्थळाला सर्व नियमांचे पालन करून ते पार पाडावे लागतील.

खाजगी प्रशिक्षण वर्ग कौशल्य केंद्रे

शाळा, महाविद्यालय किंवा इतर शैक्षणिक संस्थांसाठी असलेले नियम खाजगी प्रशिक्षण वर्ग अर्थात कोचिंग क्लासेस आणि कौशल्य केंद्रांसाठी लागू असेल. यासाठी एस डी एम ए वेगळे मार्गदर्शक तत्त्वे जारी करतील, तोपर्यंत अस्तित्वात असलेल्या नियमांचे पालन केले जाईल.

अपवाद:- कोविड-१९ च्या व्यवस्थापनासाठी, वैद्य कौशल्याचे प्रशिक्षण अभ्यासक्रम चालवणारे कौशल्य केंद्रे हे अपवाद असतील. अशा प्रकारच्या वर्गांवर कोणतेही निर्बंध नसतील. परंतु त्यांना कोविड सुयोग्य वर्तन यांचे पालन करावे लागेल आणि वेळोवेळी जारी केलेल्या एस ओ पी चे पालन करावे लागेल.

हॉटेल

1 – पाहुण्यांना प्रवेशासाठी सर्व स्तरांच्या हॉटेलांना उघडे ठेवण्याची परवानगी असेल.

2 – वेगवेगळ्या स्तरातून येणाऱ्या पाहुण्यांच्या निर्बंधांबद्दल अंकुश ठेवण्याची जबाबदारी ही त्या हॉटेलांच्या आस्थापनेवर असतील. जर एखाद्या हॉटेल स्थापनेला एखादा पाहुणा निर्बंधांच्या विरुद्ध प्रवास करून आल्याचे समजल्यास डी डी एम ए यांना तात्काळ माहिती द्यावी लागेल. (आवश्यक सेवेत असलेले कर्मचारी तसेच वैद्यकीय आपतकालीन स्थितीत काम करणारे कर्मचारी यांना येण्याजाण्याची मुभा असेल)

3 – जर एखादा पाहुणा राज्याच्या बाहेरून आला असेल तर हॉटेल आस्थापनेला खात्री करावी लागेल की तो संवेदनशील ठिकाणाहून आलेला नाही. यासाठी एस डी एम ए यांनी मार्गदर्शक तत्त्वे जारी केले आहेत आणि जर तो अशा संवेदनशील ठिकाणाहून आला असेल तर त्या संबंधीच्या सर्व मार्गदर्शक तत्त्वांची अंमलबजावणी करावी लागेल. जर एखादा पाहुणा या मार्गदर्शकांच्या पालन करत नसेल तर त्याची माहिती तात्काळ डी डी एम ए यांना द्यावी.

4 – हॉटेलमधील उपहारगृहे हे त्या ठिकाणी राहणाऱ्या पाहुण्यांसाठी मर्यादित असेल. तेही क्षमतेच्या 50 टक्के अटीवर आणि सर्व एस ओ पी यांचा पालन करून. बाहेरून येणाऱ्या पाहुण्यांसाठी लागू असलेल्या निर्बंधांचा पालन करून सेवा देते येईल. उदाहरणार्थ पार्सल अथवा होम डिलिव्हरी’ इत्यादी.

5 – हॉटेल मधील क्रीडा अथवा जलतरण पूल यासारख्या सामायिक सुविधांचा उपयोग लागू केलेल्या निर्बंधांना अनुसरूनच करावा लागेल. ते आवश्यक सेवेमध्ये येत नसल्याने व नियमित सुविधांमध्ये नसल्यास ‘इन हाऊस’ पाहुण्यांसाठी खुला नसेल.

6 – नियमांचे उल्लंघन झाल्यास दंड करण्यात येईल व वारंवार उल्लंघन केल्यास कोविड-19 आपत्ती असल्याची सूचना अस्तित्वात असेपर्यंत पूर्णपणे बंद करण्यात येईल.

पर्यटन स्थळे

एस डी एम ए यांची पूर्वपरवानगी घेऊन डी डी एम ए  कोणत्याही प्रतिष्ठित पर्यटन स्थळांना वेगळे प्रशासकीय घटक म्हणून घोषित करू शकते. या घोषणेनंतर डी डी एम ए त्या ठिकाणासाठी वेगळे स्तर देऊ शकते आणि हे या ठिकाणच्या कोविड-19 परिस्थितीवर अवलंबून असेल. तिथल्या विविध घटकांवर हा निर्णय निर्भर असेल आणि यासाठी पॉझिटिव्हिटी रेट किंवा भरलेले ऑक्सीजन बेड हे निकष नसतील. हॉटेल जवळपासच्या प्रशासकीय घटकांच्या तुलनेत एक स्तरापेक्षा जास्त कमी असता कामा नये. जर डी डी एम ए यांना वाटल्यास ते अश्या पर्यटन स्थळ आणखी जास्त निर्बंध ही लावू शकतात.

2 – थर्मल स्कॅनिंग किंवा लक्षणे चाचणीसाठी डी डी एन ए सीमेवर चेक पोस्ट लावू शकतात. तसेच येणाऱ्या पाहुण्यांवर त्याचे चार्ज लावू शकतात.

3 – अशा ठिकाणच्या पायाभूत सुविधा आणि पाहुण्यांची वर्दळ याच्या आधारे डी डी एम ए अशा या ठिकाणी जास्त निर्बंध लावू शकतात.

4 – या पर्यटन स्थळांच्या परिसरातील सर्व हॉटेलांसाठी हॉटेलचे मार्गदर्शक तत्त्वे लागू असतील. त्याच प्रमाणे डी डी एम ए जास्त दक्षता घेतील आणि वेळोवेळी यावर नजर ठेवतील.

5- जर हे स्थळ स्तर पाच मध्ये असेल तर  ई पास शिवाय कोणत्याही अभ्यागतांना तिथे येण्याची परवानगी नसेल.

6 – जर येणारे पाहुणे स्तर पाच प्रशासकीय घटकांमधील असेल तर त्यांना एक आठवड्यासाठी विलगीकरणात रहावे लागतील.

7 – पाहुणे सर्व मार्गदर्शक तत्त्वांचे काटेकोरपणे पालन करत आहेत की नाही याची खात्री करण्याची जबाबदारी त्या हॉटेल अथवा होम स्टे किंवा पर्यटक आस्थापनेची असेल. निष्काळजीपणा केल्या पाहुणे तसेच आस्थापना व्यवस्थापना विरोधात दंडात्मक कारवाई केली जाऊ शकते. या मार्गदर्शक तत्त्वांचे पाहुण्यांकडून किंवा हॉटेल, होम स्टे, पर्यटक आस्थापने कडून उल्लंघन झाल्यास त्यांची परवानगी काढून घेतली जाऊ शकते आणि जोपर्यंत कोविड-19 आपत्ती म्हणून अस्तित्वात असेल, तोपर्यंत त्यांना पुन्हा चालू करण्याची मुभा राहणार नाही.

8 – एस डी एम ए यांना वाटल्यास ते एखाद्या पर्यटन स्थळाचे वेगळ्या प्रशासकीय घटकांमधून काढू शकतात

वरील सर्व मुद्दयांबाबत राज्य आपत्ती व्यवस्थापन, मदत आणि पुनर्वास विभागामार्फत परिपत्रक प्रसिद्धीस देण्यात आले आहे.

_________________________________________________________

हिन्दी ट्रासलेट न्यूज़

कोविड-19 ‘प्रतिबंध’ से संबंधित विभिन्न मामलों की व्याख्या

मुंबई, राज्य आपदा प्रबंधन, राहत एवं पुनर्वास विभाग द्वारा 4 जून, 2021 से लगाए गए प्रतिबंधों का विस्तार। बशर्ते, प्रतिबंधों के कार्यान्वयन में कोई गलतफहमी या अस्पष्टता न हो।

भीड़ / बैठकें

1- भीड़ को ‘सामूहिक कारण के लिए पांच से अधिक लोगों के इकट्ठा होने’ के रूप में परिभाषित किया गया है। इसमें शादी समारोह, पार्टियां, चुनाव, अभियान, समाज की बैठकें, धार्मिक कार्यक्रम, मनोरंजक कार्यक्रम, खेल मैच, सामाजिक कार्यक्रम शामिल होंगे। यदि इसमें कोई अस्पष्टता है तो जिला आपदा प्रबंधन प्रशासन कलेक्टर अंतिम निर्णय लेंगे। ये दिशानिर्देश उन अन्य सभाओं पर भी लागू होंगे जिनका उल्लेख यहां नहीं किया गया है।

जब तक कोविड-19 2-आपदा के रूप में मौजूद रहेगा, तब तक 100 से अधिक लोगों की भीड़ पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहेगा। केवल स्थानीय प्रशासन और विधायिका को छूट दी जाएगी।

3- स्थानीय प्रशासन और वैधानिक सभा

1- शहरी विकास विभाग और ग्रामीण विकास विभाग द्वारा जारी दिशा-निर्देश दिनांक 4 जून 2021 के आदेश के अनुसार लागू होंगे।

2- कलेक्टर की अनुशंसा के अनुसार अति आवश्यक कार्य के लिए एसडीएमए/यूडीडी/आरडीडी से पूर्वानुमति आवश्यक है।

4- निर्माण स्थल पर क्षमता का 50% से अधिक काम नहीं किया जा सकता है।

5 – क्षमता के 25 प्रतिशत से अधिक खुले स्थान में कार्य नहीं किया जा सकता है।

6 – किसी भी बैठक या सभा की अवधि तीन घंटे से अधिक नहीं हो सकती है।

7 – यदि किसी स्थापना स्थल पर एक से अधिक बैठक की योजना है तो इन दोनों बैठकों के बीच पर्याप्त समय होना चाहिए और यह इस तरह से होना चाहिए कि आने वाले और बाहर जाने वाले मेहमानों के बीच कोई संवाद और बातचीत न हो। साथ ही दोनों बैठकों के बीच जगह को पूरी तरह से सेनेटाइज कर साफ करना होगा।

8 – यदि किसी प्रतिष्ठान में बैठकें हो रही हैं, तो वहां के कर्मचारियों को पूरी तरह से टीका लगाया जाना चाहिए या समय-समय पर परीक्षण की आवश्यकता होती है।

9- जिस स्थान पर बैठक या बैठक हो रही है उस स्थान पर समय-समय पर प्रस्तुत एसओपी का कड़ाई से पालन किया जाना चाहिए और यदि ऐसा नहीं हो रहा है तो दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी। यदि बार-बार दिशानिर्देश एसओपी का उल्लंघन करते हैं, तो स्थापना पूरी तरह से बंद हो जाएगी, और जब तक कोविड एक आपदा के रूप में मौजूद रहेगा, इन प्रतिष्ठानों को खोलने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

10 – तीन, चार और पांच के स्तर पर इकट्ठा होने या इकट्ठा होने पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहेगा। आदेश में उल्लिखित कारणों के लिए केवल 4 जून की अनुमति दी जाएगी।

11- अगर किसी जगह खाने-पीने की मीटिंग हो और उस जगह पर मास्क हटाना पड़े तो ऐसी जगह रेस्टोरेंट के लिए जारी गाइडलाइंस को लागू किया जाएगा. (स्तर तीन, चार और पांच की अनुमति नहीं होगी। स्तर दो भोजन के लिए नियमित और स्तर एक क्षमता के 50 प्रतिशत के लिए होगा।)

धार्मिक स्थल

1 – लेवल तीन, चार और पांच के सभी धार्मिक स्थल आगंतुकों के लिए बंद रहेंगे।

2-स्तर दो से पूर्वानुमति प्राप्त कर दर्शनार्थियों के लिए धार्मिक स्थल खोले जाएंगे।

3 – धार्मिक स्थल भीड़ के सभी नियमों का पालन करते हुए पहले स्तर पर आगंतुकों के लिए खुले रहेंगे।

4 – धार्मिक स्थलों के आसपास रहने वाले और अनुष्ठान करने वाले कर्मचारियों के लिए धार्मिक स्थल खुले रहेंगे, लेकिन कर्मचारियों के लिए एक ‘आइसोलेशन बबल’ की आवश्यकता होगी।

5 – ये धार्मिक स्थल स्तर तीन, चार और पांच में बाहरी कर्मचारियों के लिए बंद रहेंगे।

6- धार्मिक स्थलों पर जहां शादियां और अंत्येष्टि होगी, वहां भीड़ पर लागू होने वाले नियमों को सख्ती से लागू किया जाएगा.

7 – किसी धार्मिक समारोह या पवित्र दिन के अवसर पर यदि कोई विशेष समारोह हो तो धार्मिक स्थल को सभी नियमों का पालन करना होता है.

निजी प्रशिक्षण वर्ग कौशल केंद्र

स्कूलों, कॉलेजों या अन्य शैक्षणिक संस्थानों के लिए नियम निजी प्रशिक्षण कक्षाओं, यानी कोचिंग कक्षाओं और कौशल केंद्रों पर लागू होंगे। जब तक एसडीएमए इसके लिए अलग से दिशा-निर्देश जारी करता है, तब तक मौजूदा नियमों का पालन किया जाएगा।

अपवाद:- कोविड-19 के प्रबंधन के लिए अपवाद चिकित्सा प्रशिक्षण पाठ्यक्रम चलाने वाले कौशल केंद्र होंगे। ऐसी कक्षाओं पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा। लेकिन उन्हें कोविड के उचित व्यवहार का पालन करना होगा और समय-समय पर जारी एसओपी का पालन करना होगा।

होटल

1 – मेहमानों को प्रवेश के लिए सभी स्तरों के होटलों को खुला रखने की अनुमति होगी।

2 – उन होटलों की स्थापना विभिन्न स्तरों से आने वाले आगंतुकों के प्रतिबंधों को नियंत्रित करने के लिए जिम्मेदार होगी। यदि किसी होटल प्रतिष्ठान को पता चलता है कि किसी आगंतुक ने प्रतिबंधों के खिलाफ यात्रा की है, तो डीडीएमए को तुरंत सूचित किया जाना चाहिए। (आवश्यक सेवाओं के कर्मचारियों के साथ-साथ चिकित्सा आपातकालीन कर्मचारियों को आने और जाने की अनुमति होगी)

3 – यदि कोई आगंतुक राज्य के बाहर से आता है, तो होटल प्रतिष्ठान को यह सुनिश्चित करना होगा कि वह संवेदनशील स्थान से न आए। एसडीएमए ने इसके लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं और अगर यह इतने संवेदनशील स्थान से आता है तो सभी संबंधित दिशा-निर्देशों को लागू करना होगा। यदि कोई आगंतुक इन दिशानिर्देशों का पालन करने में विफल रहता है, तो डीडीएमए को तुरंत सूचित किया जाना चाहिए।

4 – होटल के रेस्टोरेंट उस जगह पर ठहरने वाले मेहमानों तक ही सीमित रहेंगे। 50 प्रतिशत क्षमता की शर्त पर और सभी एसओपी के अनुपालन में। बाहरी आगंतुकों पर लागू प्रतिबंधों का पालन करके सेवा प्रदान की जा सकती है। उदाहरण के लिए, पार्सल या होम डिलीवरी।

5 – होटल में खेल या स्विमिंग पूल जैसी साझा सुविधाओं का उपयोग लागू प्रतिबंधों के अनुसार किया जाना चाहिए। इन-हाउस आगंतुकों के लिए खुला नहीं होगा क्योंकि इसमें आवश्यक सेवाएं और नियमित सुविधाएं नहीं हैं।

6 – नियमों का उल्लंघन करने पर दंड दिया जाएगा और बार-बार उल्लंघन करने पर नोटिस जारी रहने तक कोविड-19 आपदा बंद रहेगी।

पर्यटन स्थल

एसडीएमए की पूर्व अनुमति से, डीडीएमए किसी भी प्रतिष्ठित पर्यटन स्थल को एक अलग प्रशासनिक इकाई के रूप में घोषित कर सकता है। इस घोषणा के बाद डीडीएमए उस स्थान के लिए एक अलग स्तर की पेशकश कर सकता है और यह इस स्थान पर कोविड-19 की स्थिति पर निर्भर करेगा। निर्णय विभिन्न कारकों पर निर्भर करेगा और कोई सकारात्मकता दर या भरे हुए ऑक्सीजन बेड नहीं होंगे। होटल आसपास की प्रशासनिक इकाइयों से एक स्तर नीचे से अधिक नहीं होना चाहिए। अगर डीडीएमए ऐसा सोचता है तो वे ऐसे पर्यटन स्थलों पर और भी अधिक प्रतिबंध लगा सकते हैं।

2 – थर्मल स्कैनिंग या लक्षण परीक्षण डीएनए बॉर्डर पर चेक पोस्ट लगा सकते हैं। यह आने वाले मेहमानों से भी शुल्क ले सकता है।

3 – जगह के बुनियादी ढांचे और आगंतुकों की आमद के आधार पर, डीडीएमए जगह पर अधिक प्रतिबंध लगा सकता है।

4 – इन पर्यटन स्थलों के आसपास के सभी होटलों पर होटल के दिशा-निर्देश लागू होंगे। इसी तरह डीडीएमए अधिक सतर्क रहेगा और समय-समय पर इस पर नजर रखेगा।

5- अगर यह जगह लेवल फाइव में है तो बिना ई-पास के किसी भी विजिटर को वहां नहीं आने दिया जाएगा।

6 – यदि आने वाले अतिथि का स्तर पांच प्रशासनिक इकाइयों के भीतर है, तो उन्हें एक सप्ताह के लिए आइसोलेशन में रहना होगा।

7- यह सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी होटल या होम स्टे या पर्यटन प्रतिष्ठान की होगी कि मेहमान सभी दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन कर रहे हैं। लापरवाही करने वाले मेहमानों के साथ ही स्थापना प्रबंधन के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जा सकती है। मेहमानों या होटलों, होम स्टे, पर्यटन प्रतिष्ठानों द्वारा इन दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने पर उनकी अनुमति रद्द की जा सकती है और जब तक कोविड-19 एक आपदा के रूप में मौजूद है, उन्हें फिर से खोलने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

8 – एसडीएमए एक पर्यटन स्थल को अलग-अलग प्रशासनिक इकाइयों से हटा सकता है यदि वे ऐसा महसूस करते हैं

उक्त सभी मुद्दों पर राज्य आपदा प्रबंधन, राहत एवं पुनर्वास विभाग की ओर से एक सर्कुलर जारी किया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here