महाराष्ट्र को अनलॉक करने के लिए सरकार ने बनाया 5-लेवल प्लान, जानें किन जिलों से पहले हटेगा पूरा लॉकडाउन

मुंबई – राज्य सरकार ने अनलॉक की गाइडलाइन जारी की है। इसके अनुसार, जिन शहरों में 25% से ज्यादा बेड खाली हैं, अभी सिर्फ उन्हें ही खोला जाएगा। जहां पॉजिटिविटी रेट सिर्फ 5% है, वहां पर सिनेमा हॉल भी खोल दिए जाएंगे।

पॉजिटिविटी रेट के आधार पर राज्य को बांटा
राज्य के कुल जिलों को 5 लेवल में बांटा गया। लेवल-5 का मतलब है कि इस लेवल के जिलों में संक्रमण दर काफी कम है। इस हिसाब से जिलों में किसी तरह की पाबंदी नहीं होगी परन्तु अंतिम निर्णय मुख्यमंत्री लेगे परिस्थिति का जायजा लेने के बाद लेवल 1, लेवल 2, लेवल 3, लेवल 4 में हैं, जहां संक्रमण दर कम होने पर पाबंदियों में छूट मिलेगी।

पहले चरण में कर्फ्यू में ढील दी गई है। पहले चरण के शहरों में शादी की सीमा 25 से बढ़ाकर 200 कर दी गई है.

पहले चरण में ये जिले है 

पहले चरण में कुल 18 जिलों को अनलॉक किया गया है। इनमें धुले, जलगांव, नासिक, बुलडाना, भंडारा, गढ़चिरौली, गोंदिया, नागपुर, वर्धा, वाशिम, यवतमाल, चंद्रपुर, औरंगाबाद, जालना, लातूर, नांदेड़, परभणी और ठाणे जिले शामिल हैं। पहले चरण में सिनेमा, जिम, दुकानें, मॉल, मॉर्निंग वॉक की अनुमति है। यह कार्यालयों को 100 प्रतिशत उपस्थिति के साथ शुरू करने की भी अनुमति देता है।

दूसरे चरण में कुल 7 जिले शामिल हैं। इनमें अहमदनगर, अमरावती, हिंगोली, मुंबई नगर, मुंबई उपनगर और नंदुरबार जिले शामिल हैं।

तीसरे चरण में कुल 10 जिले शामिल हैं। इनमें सांगली, सतारा, सोलापुर, कोल्हापुर, उस्मानाबाद, बीड, अकोला, पालघर, रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग शामिल हैं।

चौथे चरण में सिर्फ 2 जिले हैं। इनमें रायगढ़ और पुणे शामिल हैं।

पांच स्तर क्या हैं?

स्तर 1: सकारात्मकता दर पांच प्रतिशत और ऑक्सीजन बिस्तर 25 प्रतिशत से कम भरे होना चाहिए।

स्तर 2: सकारात्मकता दर 5% ऑक्सीजन बिस्तरों को 25% और 40% के बीच कवर करना चाहिए।

स्तर 3: सकारात्मकता दर 5 से 10 प्रतिशत होनी चाहिए। ऑक्सीजन बेड 40 प्रतिशत से अधिक ना हो

स्तर 4: सकारात्मकता दर 10 से 20 प्रतिशत होगी। इसके अलावा अगर यहां ऑक्सीजन बेड 60 प्रतिशत से ऊपर भरे हैं

स्तर ५: सकारात्मकता दर २०% से अधिक और ऑक्सीजन बिस्तर ७५% से अधिक

महाराष्ट्र में कंट्रोल हुआ कोरोना
देश में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित महाराष्ट्र के लिए जून महीना पॉजिटिव बदलाव लेकर आया है। राज्य में कोरोना की पहली लहर के वक्त सर्वाधिक एक्टिव केस यानी इलाज करा रहे मरीजों की संख्या 3.01 लाख थी। दूसरी लहर में यह आंकड़ा 6.99 लाख तक गया। जून के पहले दिन सूबे में एक्टिव मरीजों की संख्या 2.30 लाख ही बची थी। यानी कोरोना महामारी के पीक से अब महाराष्ट्र में 23.55% कम कोरोना के एक्टिव पेशेंट हैं।

महाराष्ट्र के मंत्री विजय वडेट्टीवार ने आज बताया कि हमने सकारात्मकता दर और जिलों में ऑक्सीजन बेडों की स्थिति के आधार पर राज्य के लिए 5 स्तरीय अनलॉक योजना तैयार की है। सबसे कम सकारात्मकता दर वाले जिलों में कोई प्रतिबंध नहीं होगा

राज्य सरकार में आपसी तालमेल नही मंत्री ने कहा लोडाउन हटेगा और cmo ने कहा अभी तय नही हुआ, अब सामन्य नागरिक क्या करे

isha

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here